Types Of tally vouchers in hindi | voucher के प्रकार

Types Of tally vouchers in hindi | voucher के प्रकार

Types Of tally vouchers in hindi | voucher के प्रकार ;-

Types Of tally vouchers के बारे में जानने से पहले हम voucher क्या है इसके बारे में जानते है। एक voucher एक दस्तावेज होता है, जो किसी वित्तीय transaction का विवरण होता है| manual entry में इसे journal entry भी कहते है| voucher मे सभी business transaction पूर्ण विवरण के साथ रिकार्ड किया जाता है।



Types of Voucher (voucher के प्रकार) :- 

Tally.ERP 9 में पूर्वनिर्धारित निम्नलिखित वाउचर के प्रकार है।

1) Contra (F4) :-  यह प्रकारे केवल bank account और cash transaction  के लिए उपयोग होता है।  उदाहरण के लिए आपने Bank में cash जमा किया या bank से cash निकाला या फिर एक bank account से दूसरे account मे पैसे transfer किये तो इन्हे Contra मे लेना चाहिएं| लेकिन bank से loan लिया तो यह इस voucher Type में नही आएगा|

Eg. 1) Open Bank Account in Bank of punjab with Rs. 5000

2) Withdrawn from Bank of punjab Rs. 2000


2) Payment (F5) :-  यह प्रकार तब select करें जब transaction cash  मे हो | उदाहरण जब cash a/c या किसी bank account से cash से भुगतान किया हो तो इस type को select करें|

E.g. 1) Machine Purchase for cash Rs. 20000
2) Salary Paid Rs. 3000

3) Receipt (F6) :-  जब business में कोई भी स्रोत से cash या चेक आता है तो यह voucher का टाइप select करें|

E. g. 1) Machine Sold for cash Rs. 10000
2) Commission Received Rs. 2000

3) Journal (F7) :-  जब गैर cash transaction हो या जो उपर दिए गए किसी टाइप में फिट नहीं हो रहा है तो इस टाइप को सिलेक्ट करें| उहरण के लिए credit पर sales और purchase, लिए loan पर ब्याज देना या कुछ काउंट एडजस्टमेंट |

E.g. 1) Bills Receivable of Rs. 10000 from yo Traders.
2) Bills Payable to India co. of Rs. 2500

4) Sales (F8) :-  सभी cash और credit sales के लिए यह टाइप select करे|

E.g. 1) Sold Goods on credit to yo Micorsystem for Rs. 20000

6) Credit Note (Ctrl + F8) :-  जब हमें sale किया हुआ माल वापस मिलता है, तो उसका details एक नोट मे होता है जिसे credit note  कहा जाता है| जब sales return transaction हो तब यह voucher टाइप select करे|

e.g. 1) Goods Return by madan Traders of Rs. 2500

नोट - debit/credit नोट को active करने के लिए voucher entry screen पर F11 कि press करें| फिर Use Debit/Credit Notes के आगे Yes दे इसके अलावा Reverse Journal और Memo को active करने के लिए Use Rev. Journal & Optional vouchers के आगे Yes दे आखिर में save करने के लिए Ctrl + A प्रेस करे|

7) Purchase (F9) :-  सभी purchase (cash और credit में) को Purchase Voucher टाइप में एंटर करे|

E.g. Puchase Machinery from yo Traders for Rs. 40,000/-.

৪) Debit Note (Ctrl + F9) :-  जब हम खरीदा हुआ माल वापस करते हैं, तो उस माल का विवरण एक नोट में होता है| इसे debit नोट कहा जाता है। जब purchase return transaction हो तब यह voucher टाइप select करे|

e.g. 1) Goods return to madan Traders of Rs. 3000

9) Reversing Journal (F10) :-  इस entry का प्रभाव सिधे account पर नही होता | कई बार कुछ transaction के असर को प्रयोगात्मक के लिए देखना होता है, तब इस voucher टाइप को select करे| इस टाइप में किये जाने वाले entries  का असर विशेष period के लिए हि होता है और हम उस period पर ही इसका प्रभाव देख सकते हैं| इस period के बाद इस voucher टाइप के सभी entries reverse हो जाती है।

नोट:-  यह voucher टाइप active करने के लिए voucher entry screen पर F11 प्रेस करें और Use Reversing Journals & Optional Vouchers option में Yes दे।

10) Memo (F10) :-  memo voucher एक non accounting voucher  है और इसमे किए गए सभी entries account पर असर नही करते | यह entries एक अलग memory    register में store होती है| आप इन memory voucher को regular voucher में convert कर सकते हैं| जब आप भविष्य में होने वाले खर्चे के लिए प्रावधान करना चाहते है, लेकिन भूलने संभावना होती है, तो यह बाउचर टाइप सिलेक्ट करें|

उदाहरण के लिए जब आपने किसी employee को कुछ आइटम खरीदने के लिए कैश देते है. जिसकी सही किमत आपको मालूम नही है | तो बजाय दो entries करने के, जिसमें से एक petty cash advance और दुसरी बची नकदी की वापसी , आप इस entry को
memory मे करें और बाद में इसे वास्तव में खर्च amount कि ही entry payment voucher में करें।

11) Post Dated :-  इस टाइप का भविष्य की entries के लिए ही उपयोग हाता है | लेकिन memory voucher के विपरीत, यह entries अपने आप दी गई तारीख पर regular entries में convert हो जाती है| regular होने वाले transaction के लिए यह voucher टाइप उपयोगी है।

उदा. अगर आप हर महीने की 10 तारीख पर किराया भुगतान करते है, तो आप post dated voucher टाइप में यह सभी entries को करें और फिर हर महिने की 10 तारीख को यह entries automatic regular entry मे convert होंगे | Ctrl+T प्रेस करके आप Post Dated Voucher टाइप को select कर सकते है|


12) Optional :-  optional voucher किसी भी voucher का प्रकार नहीं है| सभी voucher (non-accounting vouchers को छोड के) को voucher entry करते समय optional मार्क कर सकते है| optional voucher एक non optical voucher है, यानी इसमें किए गए सभी voucher entry का असर Account book पर नही होगा। टैली इआरपी 9 इन entries को लेजर मे पोस्ट नही करता लेकिन इसको अलग optional रजिस्टर में store करके रखता है| आप इनमे बदल कर सकते है और जब चाहे तब इन optional voucher को regular voucher में convert कर सकते है|

उदाहरण के लिए आप 50,000 / - की मशीनरी के लिए अगले महिने में खर्च करना चाहते है, लेकिन इस voucher के साथ आज ही report देखना चाहते है | तो आप यह entry करते समय आप इसे optional मार्क कर सकते है| फिर जब आप इस optional voucher के साथ report देखेंगे तो इसका effect आप दिख सकते है|




Post a Comment

0 Comments