Applet in java | java applet in hindi

Applet in java | java applet in hindi


Applet in java | java applet in hindi me


( Applet in java | java applet in hindi ) java Applet Internet Computing में Use किए जाने वाले छोटे छोटे Programs होते हैं। इन Programs को एक Computer से दूसरे Computer में Internet पर Transport किया जा सकता है और Applet Viewer या किसी Java Enabled Web Browser द्वारा Run किया जा सकता है। किसी भी अन्य Application Program की तरह ही एक Applet भी हमारे लिए कई जरूरी काम कर सकते हैं।

जैसे कि Applet विभिन्न प्रकार के Arithmetical Operations Perform कर सकते हैं, Applet में विभिन्न प्रकार के Graphics Display हो सकते हैं जो कि Web Page पर दिखाई देते हैं, और ये Applet विभिन्न प्रकार के Sounds भी Play कर सकते हैं और Browser में विभिन्न प्रकार के Animations Display कर सकते हैं यानी एक Web Browser में Java Applets को Use करके user  किसी Web Site में Multimedia को Use करके Web Page को अधिक उपयोगी, Informative, सरल, Interactive व Dynamic बना सकते हैं। जावा के कारण ही हम Internet के आज के स्वरूप को देख सकते हैं जिसमें ढेर सारा Multimedia Use किया जा सकता है। अब एक Web Page में ना केवल Simple Text व Static Image होता है, बल्कि Web Pages में हम आज विभिन्न प्रकार के Multimedia जैसे कि Sound, Animation, Videos व Graphics को भी देख सकते हैं ।

Java Applets Internet Server से Access होते हैं और Internet पर Transported होते हैं। यानी ये वे Software होते हैं जो Internet पर चलते हैं जब User किसी Web Page के किसी भी Link को Click करता है, तब उस Web Page में यदि कोई भी Java Applet हो, तो वह Applet Automatically Internet Server से Access हो कर User के Computer में Installed हो जाता है और Web Page के एक हिस्से की तरह यह Run होता है।

जब भी एक Applet Client के Computer पर आता है, तो वह Applet User के Computer के Resources को एक सीमा में रहते हुए ही Access करता है, ताकि ये एक उचित User Interface प्रदान कर सके, विभिन्न प्रकार की जटिल Computations कर सके और Client के Computer व Data को Viruses से किसी प्रकार का खतरा ना हो।



Java Applet - Local and Remote

किसी Applet को हम Web Page में दो तरीकों से Embed कर सकते हैं । पहले तरीके में हम हमारा स्वयं का Web Page बनाते हैं और उसमें Applet को Embed कर देते हैं। दूसरे तरीके में हम किसी Applet को किसी Remote Computer System से Download करते हैं और फिर उसे अपने Web Page में Embed कर लेते हैं।

तथा ऐसा Applet जिसे Local कंप्यूटर पर Develop किया गया हो और उसी Local System पर उस Applet को Store किया गया हो, तो इस प्रकार के Applet को Local Applet कहते हैं। जब एक Local Web Page किसी Local Applet को खोजता है तो उसका Internet से Connected रहना जरूरी नहीं होता है । ऐसा Web Page सामान्यतया Local Computer की सभी Directories को Search करके Applet को खोजता है और Web Page में Load कर देता है।

रिमोट Applet ऐसा Applet होता है जिसे किसी अन्य Developer ने Develop किया होता है और किसी ऐसे कंप्यूटर सिस्टम पर Store किया होता है जो कि Internet से Connected होता है। यदि हमारा Computer Internet से Connected हो तो हम उस Remote Applet को Internet द्वारा Download करके अपने Local Computer System पर Run कर सकते हैं । किसी Remote कंप्यूटर पर रखे Remote Applet को खोजने व अपने Computer System के Web Browser में Load करने के लिए हमें उस Applet के Web Address की जानकारी होना जरूरी होता है। और किसी भी Applet के इस Web Address को Uniform Resource Locator (URL) कहते हैं और इस Address को हमें हमारी HTML File में APPLET Tag के CODEBASE Attribute के एक मान के रूप में Specify भी करना होता है।


हम किसी Remote Applet को अपनी HTML File में निम्न Code Statement द्वारा Specify कर सकते हैं:.

लेकिन जब भी हम Local System पर किसी Applet को Locate करना चाहते हैं, तब इस CODEBASE Tag में हमें हमारा Applet के Local Address यानी Applet की Directory Path देना होता है । Clients and Servers यदि किसी User को किसी Applet की जरूरत है और वह Applet उसके कंप्यूटर पर उपलब्ध नहीं है, तो वह यूजर उस Applet को किसी Remote Computer से प्राप्त करके Use कर सकता है। उसे ये जानने की जरूरत नहीं होती है कि वह Applet किस Remote Computer पर स्थित है या किस तरह से बना है एक तरह से देखा जाए तो एक User Internet द्वारा पूरी दुनियां के Computers से जुड़ जाता है और जिस प्रकार की सूचना चाहे उस तरह की सूचना को Internet से Applet के रूप में प्राप्त कर सकता है ।

Information Technology (l.T. ) की language में कहें तो जिस कंप्यूटर से User को सूचनाएं Applet या Web Pages के रूप में प्राप्त होती हैं, उस Remote कंप्यूटर को Server कहते हैं और User का Local कंप्यूटर जो कि Applet या Web Pages द्वारा किसी प्रकार की Information को Server से प्राप्त करना चाहता है, उसे Client कहते हैं।

इस तरह से एक Local कंप्यूटर के Browser व एक Remote Computer से आने वाले Applet की Information के बीच में Client/ Server की Relationship बन जाती है इस स्थिति में Client वह होता है, जो Web Page के HTML DoCuments को अपने Local Computer पर Download करता है, जबकि Server वह होता है, जो Web Pages को Cient के Computer पर Upload करता है।


User का Computer हमेंशा Client नहीं होता है और Remote Computer हमेंशा Server नहींहोता है। कब कौनसा Computer Client होगा और कब कौनसा Computer Server होगा, ये इस बात पर निर्भर होता है कि किसी समय कौनसा Computer किस तरह का काम कर रहा है ।

Post a Comment

0 Comments