Three Layer Architecture in Dbms in Hindi

 

Three Layer Architecture in Dbms in Hindi

Three Layer Architecture in Dbms - 

DBMS interrelated file का collection है। जिसका use Different user के through database को access व modify करने के लिए किया जाता है। इसमें एक साथ कई Program का use किया जाता है। Database का main concept किसी User के abstract view का use करना होता है जिसमें data की Complete Information को Wide किया जा सके । Inner, conceptual और external तीनों level अपने limits में work करते हैं। DDL प्रत्येक Schema को express करने के लिए Schema language का use किया जाता है।



किसी Data Structure के Complex data को use करने के लिए DBMS का use किया जाता है जिसे non professional person easily operate कर सकते हैं। Database Complexity को user से wide करता है। इसे find करने के लिए database में three types के layer का use किया जाता है।

Three Layer Architecture in Dbms in Hindi


Following three levels (views) used in DBMS-

(1) External level, 

(2) Conceptual level, 

(3) Internal level


(1) External Level - 

यह abstraction का Highest level होता है जिसका use किसी external level के through किया जाता है। इस level में database के किसी एक Part को describe किया जाता है। इसमें किसी database के external part को describe किया जाता है जिसे इस table में show किया गया है 
Three Layer Architecture in Dbms in Hindi

इस type के level  में user database को use करने के लिए कम से कम information की requirement होती हैं। 


(2) Conceptual Level -  

यह second higher level है। इस Part को  database Administrator के through view किया जा सकता है।Database से related कुछ information का knowledge user के through रखा जाता है। किसी database में data को किस प्रकार store किया जाता है इसकी infomation यूजर को होनी चाहिए। इसके लिए database types के Key की information user को रखनी चाहिए।

Three Layer Architecture in Dbms in Hindi

Conceptual level का use निम्न purpose से किया जाता है-

(a) किसी database को Control करने के लिये इसका उपयोग किया जाता है।

(b) इस level से Complete database के एक Part का use किया जाता है और इसके Structure को Simple रखा जाता है।

(c) External and internal level के बीच में direction को use करने के लिए इस level का use किया जाता है।


(3) Internal Level - 

यह किसी abstraction का lowest level होता है। इस database का information सिर्फ Database Administrator को होती है। इस level में प्रोग्राम language decide करता है। इसमें data को Physically Store किया जाता है । इस level में किसी organization के through use किये जाने वाले data को store किया जाता है जिसे इस table में sbow किया गया है-

Three Layer Architecture in Dbms in Hindi


इस Level में किसी data को hard disk में किस type से store किया जाता है इसे describe

किया जाता है। इसमें किसी language का use करके data को physically Secondary Storage

device में Store किया जाता है।


Also Read - 


Post a Comment

0 Comments